फ्लिपकार्ट के बारे में जानकारी | फ्लिपकार्ट क्या है? | Information Regarding Flipkart

फ्लिपकार्ट के बारे में जानकारी (Information Regarding Flipkart), फ्लिपकार्ट, भारत में सबसे लोकप्रिय और लेयडिंग ई-कॉमर्स कंपनियों में से एक है, जिसकी बाजार हिस्सेदारी 31.9% है। 2016 में, फ्लिपकार्ट का मूल्यांकन $ 20 बिलियन था, जब अमेरिकी खुदरा दिग्गज वॉलमार्ट ने कंपनी में $ 16 बिलियन में 77% हिस्सेदारी खरीदी थी।

फ्लिपकार्ट के पास वर्तमान में 20 करोड़ से अधिक पंजीकृत ग्राहक हैं और कंपनी 80 से अधिक कटेगारी में 150 मिलियन से अधिक प्रॉडक्ट की पेशकश कर रही है। फ्लिपकार्ट के पास वर्तमान में लगभग 36,000 कर्मचारी हैं और भारत में ई-कॉमर्स क्षेत्र में अमेज़ॅन और स्नैपडील जैसे प्रतियोगियों के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहा है।

फ्लिपकार्ट के बारे में जानकारी

फ्लिपकार्ट के बारे में जानकारी | फ्लिपकार्ट क्या है?

फ्लिपकार्ट एक e-commerce वैबसाइट है, जहा से आप ऑनलाइन सामान खरीद सकते है, जैसे की एलेक्ट्रोनिक आइटम, किताबे, कपड़े, शूज यादी। 

सचिन बंसल

फ्लिपकार्ट की शुरुआत दो दोस्तों सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने की थी। सचिन बंसल का जन्म 1981 में चंडीगढ़, भारत में हुआ था। 2005 में, सचिन ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), दिल्ली से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, कंप्यूटर इंजीनियरिंग में डिग्री के साथ उनकी मुलाकात फ्लिपकार्ट के अन्य संस्थापक बिन्नी बंसल से हुई। ग्रेजुएशन के बाद सचिन टेकस्पैन में शामिल हो गए और इसके कुछ ही समय बाद, उन्होंने 2006 में एक वरिष्ठ सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में अमेज़ॅन वेब सर्विसेज में शामिल हो गए।

बिन्नी बंसल

दूसरी ओर, बिन्नी बंसल का जन्म 1982 में चंडीगढ़, भारत में हुआ था। सचिन के साथ बिन्नी ने 2005 में IIT से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में डिग्री के साथ ग्रेजुएशन भी किया। यहीं से शुरू हुई बिन्नी और सचिन की दोस्ती। ग्रेजुएशन के बाद बिन्नी सरनॉफ कॉर्पोरेशन में शामिल हो गए, लेकिन 2007 में वे अमेज़न वेब सर्विसेज से भी जुड़े।

फ्लिपकार्ट की यात्रा

2007 मै सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने Amazon Web Services की नौकरी छोड़ दी, और 4,00,000 रुपये निवेश करके फ्लिपकार्ट की स्थापना की। सुरवात मै ये दोनों फ्लिपकार्ट पर किताबे बेचते थे क्योंकि उस समय भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स, फैशन या घरेलू सामान के वेंडर ढूंढना आसान नहीं था। 

पहिली बार सचिन बंसल ने कंपनी के सीईओ के रूप मै कारभार संभाला, साथ ही 2008 मै फ्लिपकार्ट कंपनीने बंगलुरु मै 2 रूम का फ्लॅट मै अपना ऑफिस बनाके पुस्तक पाठकों के बीच लोकप्रियता हासिल की। उससे उनका बिज़नस मै बड़ोत्तरी होती रही और निवेशकों का ध्यान आकर्षित करना शुरू कर दिया। 2009 मै एक्सेल पार्टनर्स ने $ 1 मिलियन की राशी के साथ कंपनी मै निवेश किया। उस टाइम मै कंपनी के भारत मै 3 कार्यालय थे और वे कुल 4 करोड़ रुपये की किताबें बेचने में सक्षम थे।

2010 में, टाइगर ग्लोबल ने फ्लिपकार्ट में $ 10 मिलियन का निवेश किया, और कंपनी ने बैंगलोर स्थित सामाजिक पुस्तक खोज सेवा “WeRead” का अधिग्रहण किया। इसकी लोकप्रियता बढ़ने के बाद, फ्लिपकार्ट ने इलेक्ट्रॉनिक्स श्रेणी के तहत मोबाइल बेचना शुरू कर दिया। इसमे उनको सफलता नहीं मिली इसलिए उन्होंने भारत में पहली बार कैश ऑन डिलीवरी सिस्टम लागू किया। नतीजतन, कंपनी उपभोक्ताओं का विश्वास हासिल करने में सफल रही और फ्लिपकार्ट की बिक्री में वृद्धि जारी रही। वित्तीय वर्ष 2011 की शुरुआत में, उनका राजस्व 75 करोड़ रुपये था, और उसी वर्ष, उन्होंने एक डिजिटल सामग्री मंच, माइम 360 का अधिग्रहण किया। 

ये भी पड़े 

फ्लिपकार्ट का उदय

2012 मै फ्लिपकार्ट ने अपनी संगीत स्ट्रीमिंग सेवा, फ़्लाइट लॉन्च की, ये स्ट्रीमिंग सेवा लॉंच करने का उद्देश ये था की ऑनलाइन संगीत स्ट्रीमिंग सेवाओं में अपने व्यवसाय का विस्तार करने। पर कस्टमर का response न मिलने बावजूद उस सेवा को बंद किया। 2012 मै ही कंपनी ने 12.5 बिलियन रुपये में ऑनलाइन इलेक्ट्रॉनिक्स रिटेलर Letsbuy का अधिग्रहण किया जिससे उनके व्यवसाय को और बढ़ावा मिला। और उस वर्ष, फ्लिपकार्ट ने भारत में शीर्ष 20 ई-खुदरा विक्रेताओं की सूची में पहले स्थान पर कब्जा कर लिया। 

Myntra के साथ भागदारी 

2014 मै फ्लिपकार्ट ने भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी Myntra को अपने पोर्टफोलियो में फैशन और लाइफस्टाइल श्रेणी में जोड़ने के लिए $330 मिलियन में अधिग्रहण किया। इसके साथ ही फ्लिपकार्ट ने टाइगर ग्लोबल और एक्सेल पार्टनर्स के साथ-साथ विभिन्न निवेशकों के माध्यम से कुल $ 2 बिलियन जुटाने में सक्षम रहे।

MapmyIndia के साथ भागदारी 

2014 के अंत मै कंपनी का रेवेन्यू 28.4 अरब रुपये रहा। अगले साल, 2015 में, यह लगभग 80% बढ़कर 95 अरब रुपये से थोड़ा अधिक हो गया। उसी वर्ष, फ्लिपकार्ट ने दिल्ली स्थित मोबाइल मार्केटिंग फर्म “एपिटरेट” का अधिग्रहण किया और अपने वितरण कार्यों को और बेहतर बनाने के लिए MapmyIndia में एक छोटी सी हिस्सेदारी खरीदी।

फ्लिपकार्ट ने जबोंग का अधिग्रहण किया

2016 में, फ्लिपकार्ट ने एक अन्य भारतीय फैशन और जीवन शैली-आधारित ई-कॉमर्स व्यवसाय, जबोंग को $60 मिलियन में अधिग्रहित किया। अधिग्रहण के बाद, जबॉन्ग ने मिंत्रा के तहत काम करना शुरू किया और भारत के फैशन ई-कॉमर्स क्षेत्र में फ्लिपकार्ट की बाजार हिस्सेदारी 60% से अधिक थी। उसी वर्ष, सह-संस्थापक बिन्नी बंसल फ्लिपकार्ट के नए सीईओ बने जब सचिन बंसल ने पद से इस्तीफा दे दिया।

अप्रैल 2017 में, Tencent, eBay और Microsoft ने Flipkart में $1.4 बिलियन का निवेश किया और कंपनी का मूल्यांकन $11.6 बिलियन था। उसी वर्ष, फ्लिपकार्ट ने एक अज्ञात राशि के लिए भारत के यूपीआई-आधारित भुगतान स्टार्ट-अप फोनपे का अधिग्रहण किया। इसके अलावा अगस्त में, जापानी दिग्गज सॉफ्टबैंक ने कंपनी में अपने विज़न का 2.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया और साल के अंत में, कंपनी का राजस्व लगभग 156 बिलियन रुपये था।

फ्लिपकार्ट ने वॉलमार्ट इंडिया का अधिग्रहण किया – फ्लिपकार्ट होलसेल

फ्लिपकार्ट ने वॉलमार्ट इंडिया में 100% हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया, जो बेस्ट प्राइस कैश-एंड-कैरी व्यवसाय संचालित करती है। इस प्रकार, फ्लिपकार्ट होलसेल लॉन्च किया।

इसका मकसद ये था की फ्लिपकार्ट को किराना/खाद्य और फैशन व्यवसाय पर अपनी पकड़ मजबूत करने में मदद मिलेगी। फ्लिपकार्ट का होलसेल लॉन्चिंग सुरू करने का प्लान अगस्त में था। 

इससे पहले 2018 में, फ्लिपकार्ट में 77% हिस्सेदारी हासिल करके वॉलमार्ट द्वारा $16 बिलियन में फ्लिपकार्ट का अधिग्रहण किया गया था, जो वर्तमान तक दुनिया में सबसे बड़ा ऑनलाइन ई-कॉमर्स अधिग्रहण था। अब, फ्लिपकार्ट फैशन और किराना श्रेणियों में अपनी उपस्थिति के साथ अपनी थोक इकाई शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

फ्लिपकार्ट – मूल कंपनी | वॉल-मार्ट

अगस्त 2018 में, यू.एस.-आधारित खुदरा श्रृंखला वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट में US$16 बिलियन में 77% नियंत्रण हिस्सेदारी हासिल कर ली, जिससे कंपनी का मूल्य $20 बिलियन हो गया। हालांकि, उसी वर्ष के अंत में दांव को और बढ़ाकर 81.3% कर दिया गया। वॉलमार्ट इंक एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय खुदरा निगम है जो हाइपरमार्केट, डिस्काउंट डिपार्टमेंट स्टोर और किराना स्टोर की एक श्रृंखला संचालित करता है।

फ्लिपकार्ट किस देश की कंपनी है?

जैसे की पाक जानते है, फ्लिपकार्ट के मालिक सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ये भारत मै आईआईटी के स्टूडेंट थे और उन दो क्षात्रों ने 2007 मई फ्लिपकार्ट की सुरवात की थी। फ्लिपकार्ट एक इंडियन e-commerce कंपनी है।  

फिलिप कार्ड का मालिक कौन है?

फ्लिपकार्ट के मालिक सचिन और बिन्नी बंसल है, जिन्नोने आईआईटी से अपनी कम्प्युटर इंजीन्यरिंग से डिग्री हासिल की है। 

ये भी पड़े 

Leave a Comment